hindi.prashantadvait.com
निर्गुण के गुण
आचार्य जी: आपके भीतर भी जब ये निर्णय करने की बात उठे कि आनंद चुनूँ या सुख-दुःख, कि आनंद या उत्तेजना? तो आपको पता होना चाहिए कि आपको किस के साथ जाना है, किस के साथ जाना है? वक्ता: आनंद। आचार्य जी:…