gyanbazi.blog
मेरी एक प्रेमिका के नाम !
मैं math के सवाल जैसा वो English की poem जैसी, मुझे समझने के लिए जोड़ना घटाना पड़ता है, और उसे समझने के लिए दिल लगाना पड़ता है ।। मैं आँखों की गुस्तखियों जैसा वो बचपन की शरारत जैसी, इन घुस्तखियों क…