feminisminindia.com
महिला उत्पीड़न की पहली जगह है घर | Feminism In India
हम बेटा पैदा होने पर तो नहीं बोलते की ‘देवता आया है’ तो बेटी को दिव्य क्यों बनाते हैं? क्या इसलिए ताकि हम उसे हमेशा देवी के ढोंग के तले उसे उसके मानव अधिकारों से वंचित रखें?