feminisminindia.com
‘शादी करूँ या न करूँ ये मेरी मर्जी है'
हमारे समाज में हमेशा से महिलाओं के संदर्भ में शादी को उनके जीवन का अहम हिस्सा बताया गया है और उनके समाजीकरण में इस बात का ख़ास ख्याल भी रखा जाता रहा है|