ekfankaar.wordpress.com
Ghungru Ki Tarah
Lyrics by Ravindra Jain घुंगरू की तरह बजता ही रहा हूँ मैं कभी इस पग में कभी उस पग में बंधता ही रहा हूँ मैं ghungru ki tarah bajta hi raha hoon main kabhi is pag mein kabhi us pag mein bandhta hi ra…