ekfankaar.wordpress.com
Jeevan Se Bhari Teri Aankhen
Lyrics by Indeevar जीवन से भारी तेरी आँखें, मजबूर करें जीने के लिए सागर भी तरसते रहते हैं, तेरे रूप का रस पीने के लिए jiivan se bharii terii aa.Nkhe.n, majabuur kare jiine ke liye saagar bhii taras…