dustdreamsnbeyond.wordpress.com
मेज़ और अधलिखी किताब की कहानी
एक नज़र का चश्मा है मेरी मेज़ पर और एक पानी की बोतल, शायद स्टील की और कुछ पन्ने, उस एक अधलिखी किताब के जो शायद कभी पूरी ना होगी. नाम मिटने लगा है अब इस बोतल पर से बुरा लगा था जब पहले पहल मिटते देखा…