campuswriting.wordpress.com
Mann ye Bawra…
बावरा हुआ रे मन ये बावरा हुआ . . अपनी ही धुन में मन मेरा ये बावरा हुआ . . मेरे दर की हर दहलीज़ को ये लाँघता चला . . कुछ टेढ़े-मेढ़े रस्तों पर . . . . . कभी इस डगर कभी उस डगर . . . . . . . . या&he…