campuswriting.wordpress.com
…तब मुझसे मिलने आना तुम
जब चाँद हवा की पगडण्डी पर चलते-चलते ठहरा हो , जब नीली आँखों पर काली जोगन का जादू गहरा हो . जब शोर मचाते बाज़ारों के होठ पे लटके ताले हो , जब अलसाई सी राहो ने आधे से होश संभाले हो. जब बंजारे जुगनी च…