campuswriting.wordpress.com
मेरे दोस्त
कविता , कहाँ से शुरू करूँ यही सोच रहा हूँ सुबहा के ठीक 4.38 बजे नींद? हाँ याद आया तुम कहते हो मुझे रात के १-२ बजे तक सो जाना चाहिए की सेहत के लिए अछा नही होता रात को जागना पर आज नही मेरे दोस्त आज क…