cafedissensusblog.com
Robert Wood’s Five Poems in Hindi Translation
By Robert Wood जहाँ उन्होंने तबसरा किया कि रंग हमेशा हरा था, किसी वजह से, और मशरूम कभी खोजे नहीं मिले…