bapuashram.wordpress.com
सतत चिन्तन।
सतत चिन्तन। एवं सततयुक्ता ये भक्तास्त्वां पर्युपासते…..। ‘आपकी निरन्तर उपासना करता है और अव्यक्त अक्षर की उपासना करता है इन दोनों में उत्तम योगवेत्ता कौन है?’ महाभारत में एक कथा आ…