bapuashram.wordpress.com
गुरु और शास्त्र
गुरु और शास्त्र जगन्मिथ्यात्वप्रतिपादन वशिष्ठजी बोले, हे देव! शिव किसको कहते हैं और ब्रह्म, आत्म, परमात्म, तत्सत्, निष्किञ्चन, शून्य, वि…