awrighting.blog
सच्चाई
आँखे सब देखती है जागती है पलकों के पीछे नींद में भी कोई संसार तलाशती रहती है ! पहचानने की कोसिस करती है जो हमें बताया नहीं गया था बाहरी उपक्रम को बनते बिगड़ते देखकर वो पल सारे अनमोल है ! आँखों का कै…