artpens.net
Thought #89: Love ~ artpens
Endless height and depth – Love is always present. अंतहीन : अंतहीन ऊँचाई और गहराई में – प्रेम हमेशा उपस्थित है। © gayshir 2019