anushkasuri.com
Khula aakash dekh – Hindi Motivation Poem
खुला आकाश देख मन कहता है मुझे भी पंख दो हवा में उड़ने दो चाहे कठिन हो कितनी भी डगर हम मंज़िल से मुँह न मोड़ेंगे चाहे हो कितनी बड़ी चट्टान मगर हम ना पीछा छोड़ेंगे चाहे हो ज़मीन आग उगलती या समंदर की …