anushkasuri.com
Seekha hai tumse – Hindi Poem
तेज़ दर्द में भी मुस्कुराना सीखा है तुमसे डगमगाती कश्ती में न थरथराना सीखा है तुमसे यूँ तो लोग बहादुर कहलाते है जंग लड़के लेकिन ज़िन्दगी की जंग को लड़ते जाना सीखा है तुमसे चाहे हो छाए काले बदल या ह…