anushkasuri.com
Hum Panchi Hain Neel Gagan Ke – Hindi Poem
हम पंछी हैं नील गगन के हमको तुम अब उड़ने दो खुले आकाश में पतंगों जैसे ऊंचाइयों को तुम छूने दो हमको पिंजरों में न पकड़ो हमारे पंखों को मत जकड़ो हमको भी जीने दो कुछ जीवन जिसमें हो कुछ भीगा सावन हमको …