anushkasuri.com
Kahin wo to nahin – Hindi Poem
वो जो पलक झपकते ही गुज़र जाता है एक लम्हा तो नहीं ? वो जो खुशबु से सबको महकाता है एक गुलाब का फूल तो नहीं? वो जो होठो पर आकर खिल जाती है एक मुस्कराहट तो नहीं? वो जो अच्छे अच्छों को तड़पाती है एक जु…