alhadmahabal.wordpress.com
परछाईयां
पिली पिलीसी धूप में मूंदी मूंदीसी आंखे मेरी ढूंढ रही… इश्क की परछाईयां