albeladarpan.blog
काव्य श्रृंखला – 32
कई बार अच्छी सोच के बावजूद हम संसाधनों की कमी से कोई ऐसा काम करने से चूक जाते हैं जो मन को अन्दर से झंकझोर जाती है। आज राह चलते एक घायल पक्षी के साथियों के क्रंदन के बावजूद संसाधनों की अनुपलब्धता क…