agastyakapoor.in
सोचो
सोचो अगर बर्फ काली होती, गंगा खाली होती | कितना मज़ा आता अगर, अमीरी कमज़ोर और गरीबी शक्तिशाली होती | सोचो अगर दिल की जेब खाली होती, ना होठों पर गाली होती | कितना मज़ा आता अगर, पृथ्वी मेरी बीवी और चाँद…