giteshsharma.com
सोया हुआ था जब हमेशा के लिए
था मैं नींद में औरमुझे इतनासजाया जा रहा था….बड़े प्यार सेमुझे नहलाया जा रहाथा….ना जानेथा वो कौन सा अजब खेलमेरे घरमें….बच्चो की तरह मुझेकंधे पर उठाया जा रहाथा….था पास मेरा हर…