amandhally.net
Punjabi Poem : किथे जा के बस गया
Punjabi Poem by me. This poem is dedicated to all women , whom’t lovers husbands are left them or die. किथे जा के बस गया , हुन आंदा नहीं बुलाया , मेरे सिर देया सईयां , आजा मेरे माहिया , मेरे…