abpbharat.com
उन्हें लगता है मेरी सांस थम गई, लेकिन मेरे सीने में तनिक जान अभी बाक़ी है..,लखनवी शेखर जैसे कवियों ने बंधा शमाउन्हें लगता है मेरी सांस थम गई, लेकिन मेरे सीने में तनिक जान अभी बाक़ी है..,लखनवी शेखर जैसे कवियों ने बंधा शमा - ABP Bharat | Online Hindi News Channel
वात्सल्य क्रिएशन संस्था के द्वारा रविवार को श्री जय नारायण पीजी कॉलेज (केकेसी) के परिसर में कवि सम्मेलन एवं मुशायरे का आयोजन किया गया।,कार्यक्रम की शुरुआत डॉ बलवंत सिंह जी ,अभिषेक सहज जी ,लखनवी शेखर जी एवम संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुधांशु वात्सल्य ने माँ सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया,35 कवियो ने काव्यपाठ कर सम्मा बंधा वही कार्यक्रम का संचालन संस्था के उपाध्यक्ष प्रियांशु वात्सल्य द्वारा किया गया