shayrana.org
Phoolon ki tum hayat ho taro ka noor ho | Shayrana.org
​फूलों की तुम हयात हो तारों का नूर हो रहती हो मेरे दिल में मगर दूर-दूर होना तुम ख़ुदा हो, ना हो फरिश्ता, ना हूर होलेकिन मैँ खिंचा जाता हूँ कुछ तो ज़रूर होहूरें फलक़ से आती हैं दीदार को उसकेजब हुस्न ऐसा पास हो क्यों ना गुरूर होसारा शहर तबाह है उल्फ़त में तुम्हारीतुम क़त्ल भी करती हो फिर बेक़ुसूर होलिख्खेगा ग़ज़ल ताजमहल-सी कोई 'सिराज'थोड़ी-सी इनायत जो आपकी हुज़ूर हो siraj faisal khan