shayrana.org
Bekali bekhudi kuchh aaj nahi | Shayrana.org
बेकली बेख़ुदी कुछ आज नहीं एक मुद्दत से वो मिज़ाज नहीं दर्द अगर ये है तो मुझे बस है अब दवा की कुछ एहतेयाज नहीं हम ने अपनी सी की बहुत लेकिन मरज़-ए-इश्क़ का इलाज नहीं शहर-ए-ख़ूबाँ को ख़ूब देखा मीर जिंस-ए-दिल का कहीं रिवाज नहीं Mir taqi mir