shayrana.org
मियाँ रुसवाई दौलत के तआवुन से नहीं जाती | Shayrana.org
मियाँ रुसवाई दौलत के तआवुन से नहीं जाती यह कालिख उम्र भर रहती है साबुन से नहीं जाती शकर फ़िरकापरस्ती की तरह रहती है नस्लों तक ये बीमारी करेले और जामुन से नहीं जाती वो सन्दल के बने कमरे में भी रहने लगा लेकिन महक मेरे लहू की उसके नाख़ुन से नहीं जाती इधर भी सारे अपने हैं उधर भी सारे अपने थे ख़बर भी जीत की भिजवाई अर्जुन से नहीं जाती मुहब्बत की कहानी मुख़्तसर होती तो है लेकिन कही मुझसे नहीं जाती सुनी उनसे नहीं जाती - मुनव्वर राना