shayrana.org
आरजू थी तुम्हारी … | Shayrana.org
आरजू थी तुम्हारी तलब बनने की.. मलाल ये है कि तुम्हारी लत लग गई...☆Rv