shayrana.org
दर्द तो कोई समझे … | Shayrana.org
दर्द तो कोई समझे अख़बार बेचने वाले का ख़बर बेचने वाले की ख़बर कोई नहीं रखता। #नीलाभ