shayrana.org
माँ जानती है कहां … | Shayrana.org
माँ जानती है कहां तक उड़ान है मेरी... मैं उसके हाथों से निकला हुआ परिंदा हूं...!! . SHoaiB