shayrana.org
सुकूँ मिलता अगर जो … | Shayrana.org
सुकूँ मिलता अगर जो तुम मुझे पढ़ते, मग़र जानता हूँ तुमको इतनी फुरसत कहाँ....!! . SHoaiB