shayrana.org
Aata hai yaad mujhko gujra hua zamana | Shayrana.org
आता है याद मुझको गुज़रा हुआ ज़मानावो बाग़ की बहारें, वो सब का चह-चहानाआज़ादियाँ कहाँ वो, अब अपने घोसले कीअपनी ख़ुशी से आना अपनी ख़ुशी से जानालगती हो चोट दिल पर, आता है याद जिस दमशबनम के आँसुओं पर कलियों का मुस्कुरानावो प्यारी-प्यारी सूरत, वो कामिनी-सी मूरतआबाद जिस के दम से था मेरा आशियाना Allama iqbal