shayrana.org
Tum se berangi-e-hasti ka gila karna tha | Shayrana.org
तुम से बेरंगी-ए-हस्ती का गिला करना था दिल पे अंबार है ख़ूँगश्ता तमन्नाओं काआज टूटे हुए तारों का ख़याल आया हैएक मेला है परेशान सी उम्मीदों काचन्द पज़मुर्दा बहारों का ख़याल आया हैपाँव थक थक के रह जाते हैं मायूसी मेंपुरमहन राहगुज़ारों का ख़याल आया हैसाक़ी-ओ-बादा नहीं जाम-ओ-लब-ए-जू भी नहींतुम से कहना था कि अब आँख में आँसू भी नहीं Ali sardar zafri