shayrana.org
Bazaar | Shayrana.org
कभी कभी बाजा़र में यूँ भी हो जाता है क़ीमत ठीक थी,जेब में इतने दाम नहीं थे ऐसे ही इक बार मैं तुम को हार आया था।