shayrana.org
Is kadar musalsal thi shiddte judai ki | Shayrana.org
इस क़दर मुसलसल थीं शिद्दतें जुदाई की आज पहली बार उससे मैनें बेवफ़ाई की वरना अब तलक यूँ था ख़्वाहिशों की बारिश में या तो टूट कर रोया या ग़ज़लसराई की तज दिया था कल जिन को हमने तेरी चाहत में आज उनसे मजबूरन ताज़ा आशनाई की हो चला था जब मुझको इख़्तिलाफ़ अपने से तूने किस घड़ी ज़ालिम मेरी हमनवाई की तन्ज़-ओ-ताना-ओ-तोहमत सब हुनर हैं नासेह के आपसे कोई पूछे हमने क्या बुराई की फिर क़फ़स में शोर उठा क़ैदियों का और सय्याद देखना उड़ा देगा फिर ख़बर रिहाई की Ahmed Faraz