shayrana.org
Kitni pee kaise kati raat mujhe hosh nahi | Shayrana.org
कितनी पी कैसे कटी रात मुझे होश नहीं रात के साथ गई बात मुझे होश नहीं मुझको ये भी नहीं मालूम कि जाना है कहाँ थाम ले कोई मेरा हाथ मुझे होश नहीं आँसुओं और शराबों में गुजारी है हयात मैं ने कब देखी थी बरसात मुझे होश नहीं जाने क्या टूटा है पैमाना कि दिल है मेरा बिखरे-बिखरे हैं खयालात मुझे होश नहीं #Rahat_indori