shayrana.org
Kyun zindgi ki raah mein mazboor ho gaye | Shayrana.org
क्यूँ ज़िन्दगी की राह में मजबूर हो गए इतने हुए करीब कि हम दूर हो गए ऐसा नहीं कि हमको कोई भी खुशी नहीं लेकिन ये ज़िन्दगी तो कोई ज़िन्दगी नहीं क्यों इसके फ़ैसले हमें मंज़ूर हो गए पाया तुम्हें तो हमको लगा तुमको खो दिया हम दिल पे रोए और ये दिल हम पे रो दिया पलकों से ख़्वाब क्यों गिरे क्यों चूर हो गए Javed akhtar