shayrana.org
Aadmi Aadmi ko kya dega | Shayrana.org
आदमी आदमी को क्या देगा जो भी देगा वही ख़ुदा देगा मेरा क़ातिल ही मेरा मुंसिब है क्या मेरे हक़ में फ़ैसला देगा ज़िन्दगी को क़रीब से देखो इसका चेहरा तुम्हें रुला देगा हमसे पूछो दोस्ती का सिला दुश्मनों का भी दिल हिला देगा इश्क़ का ज़हर पी लिया "फ़ाकिर" अब मसीहा भी क्या दवा देगा सुदर्शन फ़ाक़िर