shayrana.org
Jindgi tujhko jiya hai koi afsos nahi | Shayrana.org
ज़िंदगी तुझको जिया है कोई अफसोस नहीं ज़हर खुद मैने पिया है कोई अफसोस नहीं मैने मुजरिम को भी मुजरिम ना कहा दुनिया में बस यही ज़ुर्म किया है कोई अफसोस नहीं मेरी किस्मत में जो लिखे थे उन्ही काँटों से दिल के ज़ख़्मों को सीया है कोई अफसोस नहीं अब गिरे संग के शीशों की हूँ बारिश 'फाकिर' अब कफ़न ओढ लिया है कोई अफसोस नहीं Sudarshan Faakir