shayrana.org
Wo aankh abhi dil ki kahan baat kare hai | Shayrana.org
वो आँख अभी दिल की कहाँ बात करे है कमबख़्त मिले है तो सवालात करे है वो लोग जो दीवाना-ए-आदाब-ए-वफ़ा थे इस दौर में तू उनकी कहाँ बात करे है क्या सोच है, मैं रात में क्यों जाग रहा हूँ ये कौन है जो मुझसे सवालात करे है कुछ जिसकी शिकायत है न कुछ जिसकी खुशी है ये कौन-सा बर्ताव मिरे साथ करे है दम साध लिया करते हैं तारों के मधुर राग जब रात गये तेरा बदन बात करे है हर लफ़्ज़ को छूते हुए जो काँप न जाये बर्बाद वो अल्फ़ाज़ की औक़ात करे है हर चन्द नया ज़ेहन दिया, हमने ग़ज़ल को पर आज भी दिल पास-ए-रवायात करे है Jaan nissar akhtar