shayrana.org
Seekho aankhen padhna sahib | Shayrana.org
सीखो आँखें पढ़ना साहिब होगी मुश्किल वरना साहिब सम्भल कर इल्जाम लगाना उसने खद्‍दर पहना साहिब तिनके से सागर नापेगा रख ऐसे भी हठ ना साहिब दीवारें किलकारी मारे घर में झूले पलना साहिब पूरे घर को महकाता है माँ का माला जपना साहिब सब को दूर सुहाना लागे क्यूं ढ़ोलों का बजना साहिब कायनात सारी ठहरा दे उस आँचल का ढ़लना साहिब Gautam rajrishi