shayrana.org
Khankah me sufi muh mein chhupaye baitha hai | Shayrana.org
खानकाह में सूफी मुँह में छुपाए बैठा है गालिबन ज़माने से मात खाए बैठा है कत्ल तो नहीं बदला कत्ल की अदा बदली तीर की जगह कातिल साज़ उठाए बैठा है उन के चाहने वाले धूप धूप फिरते हैं गैर उन के कूचे में साए साए बैठा है वाह आशिक-ए-नादाँ काएनात ये तेरी इक शिकस्ता शीशे को दिल बनाए बैठा है दूर बारिश ऐ गुल-चीं वा है दीदा-ए-नर्गिस आज हर गुल-ए-रंगीं खार खाए बैठा है Kaif bhopali