shayrana.org
Jahanato ko kaha karb se farar mila | Shayrana.org
ज़हानतों को कहाँ कर्ब से फ़रार मिला जिसे निगाह मिली उसको इंतज़ार मिला वो कोई राह का पत्थर हो या हसीं मंज़र जहाँ से रास्ता ठहरा वहीं मज़ार मिला कोई पुकार रहा था खुली फ़िज़ाओं से नज़र उठाई तो चारो तरफ़ हिसार मिला हर एक साँस न जाने थी जुस्तजू किसकी हर एक दयार मुसाफ़िर को बेदयार मिला ये शहर है कि नुमाइश लगी हुई है कोई जो आदमी भी मिला बनके इश्तहार मिला Nida Fazli