shayrana.org
Tanha tanha hum ro lenge mehfil mehfil gayenge | Shayrana.org
तन्हा तन्हा हम रो लेंगे महफ़िल महफ़िल गायेंगे जब तक आँसू पास रहेंगे तब तक गीत सुनायेंगे तुम जो सोचो वो तुम जानो हम तो अपनी कहते हैं देर न करना घर जाने में वरना घर खो जायेंगे बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो चार किताबें पढ़ कर वो भी हम जैसे हो जायेंगे किन राहों से दूर है मंज़िल कौन सा रस्ता आसाँ है हम जब थक कर रुक जायेंगे औरों को समझायेंगे अच्छी सूरत वाले सारे पत्थर-दिल हो मुमकिन है हम तो उस दिन रो देंगे जिस दिन धोखा खायेंगे Nida Fazli