shayrana.org
Intzaar | Shayrana.org
इंतजार तो किसी का भी नहीं है अब, _____फिर न जाने क्यों________ पीछे पलट कर देखने की आदत गई नहीं।