shayrana.org
Mitti me mila de ki juda ho nahi sakta | Shayrana.org
मिट्टी में मिला दे कि जुदा हो नहीं सकता अब इससे ज़्यादा मैं तेरा हो नहीं सकता दहलीज़ पे रख दी हैं किसी शख़्स ने आँखें रौशन कभी इतना तो दिया हो नहीं सकता बस तू मिरी आवाज़ में आवाज़ मिला दे फिर देख कि इस शहर में क्या हो नहीं सकता ऎ मौत मुझे तूने मुसीबत से निकाला सय्याद समझता था रिहा हो नहीं सकता इस ख़ाकबदन को कभी पहुँचा दे वहाँ भी क्या इतना करम बादे-सबा हो नहीं सकता पेशानी को सजदे भी अता कर मिरे मौला आँखों से तो यह क़र्ज़ अदा हो नहीं सकता - मुनव्वर राना