shayrana.org
बिन धागे की सुई सी … | Shayrana.org
बिन धागे की सुई सी बन गई है ये ज़िंदगी , सिलती कुछ नहीं... बस चुभती चली जा रही है.... #सचिन