shayarikidayari.com
ख्वाइशें कुछ यूँ भी अधूरी रही | Shayari Ki Dayari
ख्वाइशें कुछ यूँ भी अधूरी रही , पहले उम्र नहीं थी अब उम्र नहीं रही