shayarikidayari.com
धोखा खाने वाला इतना नहीं गवाता | Shayari Ki Dayari
धोखा खाने वाला इतना नहीं गवाता जितना धोखा देने वाला गवा लेता है